UIDAI Full Form: यूआईडीएआई का पूरा नाम, Aadhar Card की पूरी जानकारी

0

UIDAI Full Form -भारतीयों के लिए एक यूनिक पहचान है यूआईडीएआई,  इसको हिंदी में भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई)और अंग्रेजी में The Unique Identification Authority of India (UIDAI) कहते हैं। यह भारत सरकार की एक संस्था है जो आधार कार्ड योजना लागू करती है या नहीं  लोगों को एक यूनिक आईडी प्रदान करती है।  यूआईडीएआई को अंग्रेजी में

The Unique Identification Authority of India (UIDAI)  कहते हैं। भारत में आधार कार्ड विभिन्न योजनाओं में एक यूनिक आईडी की तरह उपयोग होता है। आइए इसके बारे में और अधिक जानकारी सेट कर में हासिल करते हैं।

UIDAI Full Form – Unique Identification Authority of India

अवश्य पढ़ें:

यूआईडी में पहचान संख्या क्या है ?

UIDAI Full Form Aadhar Card की पूरी जानकारी|  हिंदी में
UIDAI Full Form Aadhar Card की पूरी जानकारी| हिंदी में

भारत सरकार की एक संस्था है, जो आधार योजना को लागू  करती है। एक विशेष तरीके का यूआईडी नंबर होता है जिसे हिंदी में विशिष्ट पहचान संख्या कहते हैं। जिसका उद्देश्य भारत के सभी निवासियों के लिए एक विशिष्ट पहचान संख्या प्रदान करना है।

भारतीय विशिष्‍ट पहचान प्राधिकरण (Unique Identification Authority of India)  सन 2009 में स्थापित भारत सरकार का एक प्राधिकरण है। इसका काम भारत के नागरिकों को  पहचान पत्र और पहचान संख्या देना है।  उनके बारे में जानकारी मिलती है। इस आधार संख्या से हर नागरिक की एक यूनिट पहचान होती जिससे कि उसे आसानी से पहचाना जा सकता है और विभिन्न सरकारी योजनाओं और संस्थानों में इसका उपयोग आइडेंटी कार्ड की तरह होता है।

भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं में आधार कार्ड जरूरी है। बैंक से आधार कार्ड का लिंक, राशन कार्ड से आधार कार्ड का लिंक, इनकम टैक्स का पैन और आधार कार्ड से लिंक, आधार कार्ड यूनिक आईडी से किसी एक नागरिक की पहचान से होती है।  अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं होगा तो आप किसी भी योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं। आधार कार्ड बैंक में स्कूल में किसी योजना का लाभ उठाने में आईडी और आपकी पहचान के रूप में मांगा जाता है।

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (Unique Identification Authority of India, UIDAI)  यह प्राधिकरण सरकार द्वारा संचालित है। इसकी स्थापना 12 जुलाई सन 2016 को आधार अधिनियम 2016 के प्रावधानों पर हुआ था। इसमें भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधिकार क्षेत्र द्वारा इसे स्थापित किया गया है।

यूआईडीएआई की पहचान संख्या  कितने डिजिट की होती है?

आपने देखा होगा कि आधार कार्ड पर एक यूआईडी यानी विशिष्ट पहचान संख्या होती है, जिसे आधार पहचान संख्या भी आम भाषा में कहा जाता है। यह 12 डिजिट की होती है। इस आधार कार्ड और यूनिक आईडी नंबर से निवासियों की संख्या और उनके जेनेटिकल बायोमेट्रिक जानकारी जैसे की तस्वीर 10 उंगलियों की छाप आंखों की पुतली का स्केन आदि एक डेटाबेस के रूप में हर नागरिक की इन सूचनाओं को स्टोर करके रखा जाता।

आपको बता दें कि यूआईडी डेटाबेस का आरंभ भारत सरकार ने सन 2009 को योजना आयोग यानी प्लानिंग कमिशन अंडर में भारत सरकार के राजपत्र के एक अधिसूचना के माध्यम से एक कार्यालय के रूप में  स्थापित किया गया।

इसका काम  UIDAI ओर UID डेटाबेस को संचालित करना और योजनाओं के लिए नीतियां बनाना फिर इन डेटाबेस का सही रखरखाव रखने की जिम्मेदारी दी गई थी।

सरकारी योजनाओं के लिए आधार क्यों आवश्यक है?

सरकारी योजना में लाभ वाले धनराशि को डायरेक्ट बेनिफिट प्रोग्राम के तहत भेजा जाता है इससे आधार कार्ड से पैसा भेजना भी आसान हो जाता है। आधार कार्ड के डाटा से सही और सटीक डाटा हासिल होती है, सही लाभार्थी तक सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है। बता दे इससे पहले जब आधार कार्ड सिस्टम लागू नहीं हुआ था तो सरकारी योजनाओं में लाभार्थी तक लाभ नहीं पहुंच पाता था बिचौलिए और डुप्लीकेट लोग लाभ हासिल करते थे और इससे  भ्रष्टाचार भी फैलता था। 

यूनिक आईडी आ जाने से भ्रष्टाचार पर लगाम लगा है। अब हर इंसान की पहचान आधार कार्ड से होती है जिससे कि सही और गलत लाभार्थी के बारे में जानकारी आसानी से मिल जाती है। क्योंकि अब अकाउंट नंबर पैन कार्ड आदि आधार कार्ड से जुड़ा होता है। राशन कार्ड और  रसोई गैस से की सुविधा आदि भी आधार कार्ड से अब जुड़ गई है। इसलिए यह इतना बड़ा डेटाबेस होता है कि आसानी से पता चल जाता है कि कौन लाभार्थी है और कौन डुप्लीकेट।

आधार कार्ड के फायदे

आइए जाने आधार कार्ड के फायदे क्या है और इसमें यूआईडी जो है वह आधार कार्ड को यूनिक बनाता है। यूआईडी के थ्रू आधार कार्ड से जुड़े हुए सारे Biometric दस्तावेज एक यूनिक पहचान बनाता है।

सरकारी  सब्सिडी के लिए आधार कार्ड

सरकार जनता को सब्सिडी देने के लिए कई तरह की योजनाएं बनाती है। इन योजनाओं का फायदा लेने के लिए सभी को अपने बैंक खाते से आधार को लिंक करना जरूरी होता है। जैसे मान लीजिए अटल पेंशन योजना केरोसिन सब्सिडी योजना किसान मानधन योजना इत्यादि का पैसा लाभार्थी कि सीधे खाते में पहुंचता है। जब वह आधार कार्ड से उसका खाता जुड़ा होता है तभी वह इसका फायदा हासिल कर सकता है।

गैस कनेक्शन के लिए  जरूरी आधार कार्ड

 रसोई गैस का नया कनेक्शन बिना आधार कार्ड के नहीं होता है। अगर मौजूदा आपके पास आधार कार्ड रसोई गैस कनेक्शन जुड़ा हुआ है तो आप सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं,  रसोई गैस सब्सिडी का पैसा डायरेक्ट

 डीबीटीएल (DBTL) योजना के तहत सीधे अपने बैंक खाते में प्राप्त होता है। सब्सिडी पाने के लिए आपको KYC फॉर्म भरना होता है और आधार कार्ड से अपने बैंक अकाउंट को लिंक करना होता है।

आइडेंटिटी कार्ड/पहचान पत्र के रूप में आधार कार्ड

आधार कार्ड का उपयोग आइडेंटी कार्ड और पहचान पत्र के रूप में भी होता है क्योंकि इसमें कार्ड होटल की फोटो ही नहीं बल्कि उसकी बायोमेट्रिक जानकारी जैसे फिंगरप्रिंट से आयरिश इमेज आदि होता है।

आधार कार्ड में क्यूआर कोड होता है जिसे हम स्कैन करके आधार कार्ड में उपलब्ध सारी जानकारी सही है कि नहीं या देख सकते हैं इस तरह से आधार कार्ड में पहचान पत्र के रूप में काम करता है।

निवास प्रमाण पत्र के तौर पर आधार कार्ड

आधार कार्ड का इस्तेमाल घर के परमानेंट पते के तौर पर भी प्रयोग किया जाता है। आधार कार्ड धारक का इसमें आवासी पता होता है, दोस्तों सभी सरकारी और गैर सरकारी वेरिफिकेशन की प्रोसेस के तौर पर इस एड्रेस को इस्तेमाल किया जाता है। बैंक कर्ज और इसी तरह का लोन लेने में आधार कार्ड का पता तो क्या आधार के रूप में काम करता है।

Aadhar Card  बैंक अकॉउंट से link

आज क्या बैंक अकाउंट में आधार कार्ड केवाईसी के तौर पर मांगा जाता है बिना आधार कार्ड के अकाउंट  होली की पहली जरूरत बन गई। कई बैंक अपने अकाउंट खोलने के लिए आधार कार्ड के साथ पैन कार्ड जरूर मांगती है। आपको बता दें कि इस अकाउंट को आधार से लिंक कराना जरूरी होता है। नहीं तो विभिन्न योजनाओं का पैसा सब्सिडी के रूप में आपके बैंक अकाउंट में नहीं आ पाता है।

General FAQs

पंजीकृत मोबाइल नंबर क्या है?

पंजीकृत मोबाइल नंबर यानी आधार कार्ड से रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर होता है जिससे कि आप आधार कार्ड को कभी भी ओटीपी के माध्यम से अपडेट कर सकते हैं।

आधार कार्ड बनवाने के बाद मिलने वाले यूआईडी नंबर को क्या बाद में चेंज कराया जा सकता है?

यूआईडी एक विशिष्ट पहचान पत्र है जो नागरिकों का बायोमेट्रिक पहचान पत्र है, यह एक नई तकनीक है जिसे दुनिया के अधिकांश देशों ने अपना लिया है।  इसीलिए हर नागरिक के पास आधार कार्ड होना जरूरी है।  आधार कार्ड जनरेट करते समय एक यूआईडी नंबर मिलता है जो 12 अंकों का होता है। वह कभी चेंज नहीं हो सकता है। बल्कि आपके मोबाइल नंबर पता या नाम में किसी तरह की गलती हो या बायोमेट्रिक पहचान पत्र में समय के साथ नेचुरल बदलाव हो तो उसकी चेंजिंग हो सकती है। लेकिन यूआईडी नंबर की चेंजिंग नहीं होती है।

आधार क्या है? What is the Aadhar card?

आधार कार्ड एक नागरिक के की एक यूनिट पहचान है। जिसमें 12 डिजिट का एक यूनिक यू आएगी द्वारा जारी किया हुआ आइडेंटी नंबर होता है। यह नंबर दो आदमी के एक नहीं हो सकते हैं। यह यूनिक आईडी नंबर होता है।

आपको बता दें कि आधार कार्ड से पहले आईडेंटिकार्ड या किसी भी तरह से फोटो पहचान पत्र चलता था, तो उसमें छेड़छाड़ करके लोग डुप्लीकेट आईडी बनवा कर किसी भी योजना, सब्सिडी का लाभ  बेईमानी से हासिल कर लेते थे।  लेकिन आधार कार्ड में सशक्त यूनिक आईडी है, जिसमें नवीनतम टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है।

आपके दसों उंगलियों के छापों इसमें होते हैं और आपके आंखों के पुतली की एक विशिष्ट पहचान होती है, जो इसे बायोमेट्रिक तरीके से दर्ज किया जाता है।

अगर आपके पास आधार यूनिक आईडी नंबर है, इसमें क्यूआर कोड है, तो उसके जरिए आपकी पहचान बड़ी आसानी से हो सकती है। तो इस तरह से आधार कार्ड जो है, एक आईडी के रूप में बहुत ही सशक्त है। इससे असली और नकली व्यक्ति की पहचान हो सकती है।

आधार मोबाइल एप क्या होता है?

यहां पर आधार मोबाइल एप के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है ध्यान से समझें। आप अपने मोबाइल पर आधार मोबाइल ऐप डाउनलोड कर ले फिर आधार कार्ड रखने की जरूरत नहीं है इससे मोबाइल ऐप से आप अपना आधार दिखा कर योजना का लाभ पा सकते हैं।
आधार ऐप हुआ लांच, अब आधार कार्ड साथ रखने की नहीं होगी जरूरत।
मोबाइल आधार कार्ड एप किसने लॉन्च किया?
mAadhaar Moboile App यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने विकसित और लांच किया है।
mAadhaar Moboile App कैसे डाउनलोड करें?
मोबाइल आधार एप केवल एंड्रॉयड फोन के लिए ही उपलब्ध है। M Aadhaar App
गूगलप्लेस्टोर से अपने मोबाइल पर डाउनलोड कर सकते हैं।
इस ऐप को अपने मोबाइल पर डाउनलोड करने के बाद उसे लॉक या अनलॉक करने के लिए बायमेट्रिक फीचर उंगली की छाप दिया हुआ है।
इस काम पर आपका डाटा मोबाइल में भी सुरक्षित रहता है। इससे भी जानकारी किसी के पास नहीं पहुंचती है। क्योंकि मोबाइल ऐप हो आपके फिंगर  impression से lock और  unlock होता है।   जब आप इस मोबाइल आधार एप को अनलॉक कर देंगे,  तो आप इसे आधार कार्ड की तरह दिखा सकते हैं।

मैंने अपना आधार पत्र खो दिया है। क्या मुझे   दोबारा कैसे प्राप्त करें?

UIDAI ने Add ऑर्डर आधार पुनर्मुद्रण ’सेवा नामक एक नई सेवा शुरू की है। आप यूआईडीएआई की वेबसाइट पर / mAadhaar ऐप के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं और 50 रुपये के  मामूली शुल्क पर आधार कार्ड रिप्रिंट होकर आपको मिल जाएगा।

UIDAI के पास मेरा बायोमीट्रिक्स, बैंक अकाउंट और पैन आदि समेत हर तरह की सूचना का डाटा  कहीं लीक तो नहीं हो जाएगा?

यूआईडीएआई के डेटाबेस में केवल कम से कम जानकारी होती है आप नामांकन या अपडेट्स के समय देते हैं इसमें जो जानकारी देती है वह केवल निम्नलिखित प्रकार की होती है-
आपका नाम
आपका पता
आपका लिंग
आपकी जन्मतिथि
आपके हाथ की 10 उंगलियों की छाप
आपके दोनों आंखों की पुतलियों का स्कैन आपके चेहरे की फोटो आपका मोबाइल नंबर
आपकी ई-मेल आईडी (यदि आपने दी है तो)।
इसके अलावा UIDAI के पास आपकी कोई जानकारी नहीं होती है।

मेरे पते का प्रमाण नहीं है क्या मैं इसे अपने यूआईडी  कैसे अपडेट  कर सकता हूं?

हां, आप UIDAI की वेबसाइट पर एड्रेस वेरिफिकेशन लेटर के लिए आवेदन करके अपना पता एड्रेस वेरिफायर के जरिए अपडेट कर सकते हैं। यह आपके आवेदन पत्र के साथ जमा किया जाना है।

मैं अपने आधार पर अपना नाम अपडेट करना चाहूंगा। क्या मैं इसे स्वयं सेवा अपडेट पोर्टल (SSUP) के माध्यम से ऑनलाइन अपडेट कर सकता हूं?

नहीं केवल पते को SSUP portal के माध्यम से अपडेट किया जाता है। नाम, जन्मतिथि, फोटो, मोबाइल आदि को अपडेट करने के लिए स्थाई नामांकन केंद्र पर जाना होगा।

आधार कार्ड कब तक वैध है?

आधार पूरे जीवन के लिए वैध होता है।

क्या ई-आधार और आधार कार्ड  मैं अंतर होता है?

आधार कार्ड और ई आधार कार्ड  दोनों में कोई अंतर नहीं होता है। ई आधार कार्ड डिजिटल संस्करण होता है जो डिजिटल तरीके से आपके पास पहुंचता है जबकि आधार कार्ड पंजीकरण होने के बाद वह डाक के द्वारा आपके पास पहुंचता है।


इसे भी पढ़ें:

Leave A Reply

Your email address will not be published.