21 जून 2020 का सूर्य ग्रहण – 21 June 2020 Solar Eclipse in Hindi

0

21 जून 2020 का सूर्य ग्रहण – 21 June 2020 Solar Eclipse in Hindi – वैज्ञानिक दृष्टि से सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है,जिस में पृथ्वी और सूर्य के बीच में चँद्र आ जाता है.इस से सूर्य का पूर्ण प्रकाश धरती पर नहीं आ पाता इस घटना को “सूर्य ग्रहण” कहते हैं. सूर्य ग्रहण तब होता है,जब सूर्य आंशिक अथवा पूण रुप से चन्द्रमा व्दारा आवृत हो जाए.इस प्रकार के ग्रहण के लिए चन्द्रमा का पृथ्वी और सूर्य के बीच आना आवश्यक है.
इससे पृथ्वी पर रहने वाले लोगों को सूर्य का आवृत भाग नही दिखाई देता है. इस दौरान सूर्य का कुछ भाग ढक जाता है तो उसे आंशिक या खंडग्रास ग्रहण कहते है.जब सूर्य पूर्ण रुप से ढक जाता है एंव प्रकाश चारों ओर से एक कंगन की तरह दिखने लगता है,तो उसे कंगन सूर्य ग्रहण या खग्रास सूर्य ग्रहण कहते हैं.यह घटना हमेशा अमावस्या को ही घटती है.

अवश्य पढ़ें:

सूर्य ग्रहण के संक्रमण काल को लेकर ज्योतिषियों का यह मानना हैः(Astrologers believe in the transition period of solar eclipse)

21 जून 2020 का सूर्य ग्रहण - 21 June 2020 Solar Eclipse in Hindi
21 जून 2020 का सूर्य ग्रहण – 21 June 2020 Solar Eclipse in Hindi

यह संक्रमण सूर्य ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट,58 सेकंड पर शुरु हो जाएगा और दोपहर 3 बजकर 4 मिनट 1सेकंड पर समाप्त हो जायेगा. कुल 5 घंटे,48 मिनट और 3 सेकंड के लिए यह सूर्य ग्रहण रहेगा. इस सूर्य ग्रहण का आरंभ और समापन का समय भारत में अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग रहेगा.इस बार सूर्य ग्रहण रविवार के दिन होने के कारण वर्षा की कमी,गेहूँ,धान और अन्य अनाज के उत्पादन में कमी आ सकती है.
गाय के दूध का उत्पादन घट सकता है. इसके अलावा ज्योतिष के विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि,प्रमुख देश के राष्ट्राध्यक्षों के बीच तनाव और बहस बढ़ सकती है.व्यापारियों के लिए इस ग्रहण के प्रभाव से शुभ और लाभ होने की संभावना है.
नियमानुसार ग्रहण से 12 घंटे पहले, ग्रहण का सूतक लग जाएगा. इसलिए भारत में 20 जून को, रात 9 बजकर 56 मिनट से ग्रहण का सूतकाल माना जाएगा. ग्रहण का समय भारत में अलग-अलग होने के कारण सूतक का समय भी उसके अनुसार अलग-अलग रहेगा>

भारत में इन स्थानों पर सूर्य ग्रहण का दर्शन होगाः(Solar eclipse will be seen at these places in India)

21 जून के दिन सूर्य ग्रहण का दर्शन भारत में सबसे पहले गुजरात के द्वारका शहर में होगा और सबसे आखरी में कोहिमा में ग्रहण का मोक्ष होगा. खग्रास सूर्य ग्रहण पूरे भारत में नजर नहीं आएगा. कुछ स्थानों पर यह ग्रहण खंडग्रास के रुप में भी दिखेगा. भारत में मसूरी,टोहन,चमोली,कुरुक्षेत्र, देहरादून में यह ग्रहण कंगन रुप में नजर आएगा देश की राजधानी दिल्ली में ग्रहण के दौरान सूर्य 95 प्रतिशत भाग कटा हुआ दिखेगा.

सूर्य ग्रहण का दृश्य इस प्रकार दिखेगाः(The scene of Solar eclipse on 21 June will look like this):

कंगन सूर्य ग्रहण वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा,जिसमें चंद्र की छाया सूर्य के 99 प्रतिशत हिस्से को ढक लेगा. यहाँ सूर्य का केंद्रीय भाग पूरी तरह से अंधेरा यानि काला दिखाई देगा. सूर्य के किनारों पर चमक बनी रहेगी, इस प्रकार के सूर्य ग्रहण को कुछ ही स्थानों पर देखा जाएगा. यह सूर्य ग्रहण किसी चमकते हुए कंगन,अंगूठी की तरह दिखता है.यह मिथुन राशि,मंगल के मृगशिरा नक्षत्र में लगेगा.भारत के अलावा, मध्य अफ्रिकी गण राज्य,कांगो, इथियोपिया,पाकिस्तान और चीन में भी देखा जाएगा.

सूर्य ग्रहण के समय इन विधियों का पालन करना चाहिएः(These methods should be followed at the time of Solar eclipse):

ग्रहण को लेकर लोगों के बीच भिन्न-भिन्न मान्यताएँ होती हैं. 

  • इसे माननेवाले लोग ग्रहण के समय घर पर ही रहते है.
  • खाने की वस्तुओ में तुलसी के पत्तों को डाल कर रखा जाता है.
  • ग्रहण समय पूजा पाठ व मूर्तियों का स्पर्श नहीं करते.
  • सूर्य ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान करके शुध्द होते है.
  • सूर्य देव के मंत्रों का उच्चारण ग्रहण के समय करते है.

Surya Grahan 21 June 2020 Live video


दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़ें