बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की तैयारी कैसे करे और जाने Syllabus and Exam Pattern 2019

BPSC Syllabus and Exam Pattern 2019 in Hindi | BPSC पाठ्यक्रम 2019

0

दोस्तों आज SarkariExamHelp आप सभी प्रतियोगी छात्रों के समक्ष बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) से समबन्धित बहुत ही महत्वपूर्ण Post शेयर कर रहा है. इस पोस्ट के माध्यम से आप सभी छात्रों को BPSC Syllabus and Exam Pattern 2019 की पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक बताया गया है. BPSC की तैयारी कैसे करे और इसमें सफल होने के लिए क्या रणनीति होनी चाहिए ये सारी जानकारी आप इस POST के द्वारा हासिल कर सकेंगे.

बिहार लोक सेवा आयोग सिलेबस, पाठ्यक्रम और एग्जाम पैटर्न 2019 | BPSC Syllabus and Exam Pattern 2019

BPSC Previous Year Question Paper

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) द्वारा 65वीं राज्यस्तरीय सिविल सेवा परीक्षा की अधिसूचना जारी की जा चुकी है. BPSC Online Registration  2019 आवेदन करने की Last Date 24 July 2019 है. इस बार रिक्त पदों की संख्या 434 है. इस परीक्षा के माध्यम से राज्य के सर्वोच्च स्तर के अधिकारीयों की नियुक्ति होती है. किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कठिन परिश्रम जितना महत्वपूर्ण होता है, उतना ही महत्वपूर्ण योजनाबद्ध कार्यनीति भी गोटी है. इसलिए तैयारी करने से पूर्व योजना बनाना जरुरी है. हम यहाँ BPSC द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी से सम्बंधित दिशा निर्देशों के विषय में जानकरी दे रहे है.

इसे भी पढ़े : BPSC Previous Year Question Papers

शैक्षिक योग्यता, उम्र सीमा. शारीरिक क्षमता

इसके लिए आवश्यक योग्यता मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक है. उम्र सीमा पदों के अनुसार निम्नलिखित है –

 

क्र.सं.विभाग/ पद का नामकुल पद
1.Sub Divisional Officer (अनु मंडल पदाधिकारी)30
2.Deputy Superintendent of Police (पुलिस उपाधीक्षक)62
3.Rural Development Officer (ग्रामीण विकास अधिकारी)110
4.Block Panchayat Officer (ब्लॉक पंचायत अधिकारी)14
5.District Sanapark Officer (जिला संपर्क अधिकारी)11
6.Bihar Education Service (बिहार शिक्षा सेवा)72
7.Labour Enforcement Officer (श्रम प्रवर्तन अधिकारी)20
8.Food and Consumer Inspector (खाद्य और उपभोक्ता निरीक्षक)19
9.Election Department (निर्वाचन विभाग अधिकारी)46
10SC/ ST Welfare Department (अनुसूचित जाति /अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग)18
11.Other (अन्य)32
कुल434

 

ध्यान दें – न्यूनतम उम्र सेवा वार 20 वर्ष है, अधिकतम अनारक्षित (पुरुष ) – 37 वर्ष, अनारक्षित (महिला), पिछड़ा वर्ग एवं अत्यंत पिछड़ा वर्ग (पुरुष एवं महिला) – 40 वर्ष तथा एस.सी.. एवं एस.टी. (पुरुष एवं महिला) -42 वर्ष है.

शारीरिक क्षमता (Physical Ability)

बिहार पुलिस सेवा के लिए पुरुष उम्मीदवारों की न्यूनतम ऊंचाई  5 फीट 5 इंच होनी चाहिए. अनुसूचित जाति/जनजाति के उम्मीदवारों के प्रसंग में उपर्युक्त शाररिक माप के उम्मीदवार उपलब्ध नहीं होने पर उनकी न्यूनतम ऊंचाई 5 फीट 3 इंच तथा छाती की माप बिना फुलाये 31 इंच होनी चाहिए. महिलाओं की न्यूनतम ऊंचाई 5 फीट 2 इंच होनी चाहिए.

ध्यान दें –

  • आरक्षण की सुविधा उन्हीं उम्मीदवारों को मिलेगी, जिनका स्थायी निवास बिहार राज्य में है.
  • परीक्षा में बैठने के लिए अवसरों की सीमा समाप्त कर दी गयी है.

परीक्षा पद्धति

परीक्षा तीन चरणों में पूर्ण होगी –

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा (Mains Exam)
  3. साक्षात्कार (Interview)

प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Examination)

  • संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा सामान्य अध्ययन विषय की होगी.
  • प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकृति के बहु-विकल्पीय होंगे.
  • प्रारंभिक परीक्षा में सामान्य वर्ग के लिए 40 प्रतिशत, पिछड़ा वर्ग के लिए 36.5 प्रतिशत, अत्यंत पिछड़ा वर्ग 34 प्रतिशत एवं एस/एसटी, महिलाओं तथा निःशक्तता से ग्रस्त (दिव्यांग) के लिए 32 प्रतिशत अर्हतांक प्राप्त करना अनिवार्य होगा अन्यथा वे प्रतियोगिता से बाहर हो जायेंगे.
  • प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्न-पत्र हिन्दी एवं English भाषा में होंगे.
विषयअंकप्रश्नसमय
सामान्य अध्ययन1501502 Hours

 

मुख्य परीक्षा

  • प्रारंभिक परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों से मुख्य परीक्षा हेतु अलग से आवेदन पत्र भरवाया जायेगा.
  • मुख्य परीक्षा निबंधात्मक प्रकार की होगी.
  • प्रारंभिक परीक्षा हेतु ऑनलाइन आवेदन भरते ही मुख्य परीक्षा के लिए अपनी इच्छा अनुसार एक ही वैकल्पिक विषय का चयन करना अनिवार्य होगा. एक बार वैकल्पिक (एच्छिक) विषय के चयन इ बाद उसमे किसी तरह का बदलाव मान्य नहीं होगा.
विषयअंकसमय
* सामान्य हिन्दी1003 घंटे
* सामान्य अध्ययन- I3003 घंटे
* सामान्य अध्ययन- II3003 घंटे
* एच्छिक विषय (एक पत्र)3003 घंटे

 

मुख्य परीक्षा हेतु एच्छिक विषय (वैकल्पिक विषय)

क्र.सं.विषय (Subject)विषय कोड
1.कृषि विज्ञान (Agriculture)04
2.पशुपालन तथा चिकित्सा विज्ञान (Animal Husbandry & Veterinary Science)05
3.मानव विज्ञान (Anthropology)06
4.वनस्पति विज्ञान (Botany)07
5.रसायन विज्ञान (Chemistry)08
6.सिविल इंजीनियरिंग (Civil Engineering)09
7.वाणिज्यिक शास्त्र तथा लेखा विधि (Commerce & Accountancy)10
8.अर्थशास्त्र (Economics)11
9.विधुत इंजीनियरिंग (Electrical Engineering)12
10.भूगोल (Geography)13
11.भू-विज्ञान (Geology)14
12.इतिहास (History)15
13.श्रम एवं समाज कल्याण (labour and Social Welfare)16
14.विधि (Law)17
15.प्रबंधन (Management)18
16.गणित (Mathematics)19
17.यांत्रिक इंजीनियरिंग (Mechanical Engineering)20
18.दर्शन शास्त्र ( Philosophy)21
19.भौतिकी (Physics)22
20.राजनीति विज्ञान तथा अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध (Political Science and Internationals Relations)23
21.मनोविज्ञान (Psychology)24
22.लोक प्रशासन (Public Administration)25
23.समाज शास्त्र (Sociology)26
24.सांख्यिकी (Statics)27
25.प्राणी विज्ञान (Zoology)28
26.हिन्दी भाषा और साहित्य (Hindi Language & Literature)29
27.अंग्रेजी भाषा और साहित्य (English Language & Literature)30
28.उर्दू भाषा और साहित्य (Urdu Language & Literature)31
29.बंगला भाषा और साहित्य ( Bangla Language & Literature)32
30.संस्कृत भाषा और साहित्य (Sanskrit Language & Literature)33
31.फारसी भाषा और साहित्य (Persian Language & Literature)34
32.अरबी भाषा और साहित्य (Arabic Language & Literature)35
33.पाली भाषा और साहित्य (Pali Language & Literature)36
34.मैथली भाषा और साहित्य (Maithili Language & Literature)37

 

ध्यान दें – सामान्य हिन्दी विषय की लिखित परीक्षा में 30 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य होगा. इस विषय का प्राप्तांक मात्र अर्हकारी (Qualifying) होने के लिए होगा. इसका प्राप्तांक मेधा सूचि में नहीं जोड़ा जायेगा.· उम्मीदवार को नीचे दिए गए उपर्युक्त विषयों में से किसी एक विषय को मुख्य परीक्षा के लिए चयन करना होगा.

व्यक्तित्व परिक्षण (Personality Test)

मुख्य परीक्षा में सफल उम्मीदवारों का व्यक्तित्व परिक्षण 120 अंको का होगा.

ध्यान दें मुख्य परीक्षा के 900 अंक एवं साक्षात्कार के लिए 120 अंक; कुल 1020 अंको के आधार पर मेधा सूची तैयार की जाएगी. हिन्दी का प्राप्तांक मेधा सूची में नहीं जोड़ा जायेगा.

प्रारंभिक परीक्षा पाठ्यक्रम (BPSC Preliminary Exam Syllabus)

सामान्य विज्ञान, राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय महत्व की समसामयिक घटनाएँ, भारत का इतिहास तथा बिहार के इतिहास की प्रमुख विसेश्ताएं, सामान्य भूगोल, बिहार के प्रमुख भौगोलिक प्रभाग तथा यहाँ की महत्वपूर्ण नदियाँ, भारत की राजव्यवस्था और अर्थव्यवस्था, आजादी के पश्चात बिहार की अर्थव्यवस्था में प्रमुख परिवर्तन, भारत का राष्ट्रीय आन्दोलन तथा इसमें बिहार का योगदान एवं सामान्य मानसिक योग्यता को जांचने वाले प्रश्न.

मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम(BPSC Mains Exam Syllabus)

सामान्य हिन्दी

सामान्य हिंदी में प्रश्न बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के माध्यमिक (Secondary) स्तर के होंगे. इस परीक्षा में सरल हिन्दी में अपने भावों को स्पष्टतः एवं शुद्ध रूप में व्यक्त करने की क्षमता और सहज बोध शक्ति की जांच समझी जाएगी.

अंको का विवरण

  • निबंध – 30 अंक
  • व्याकरण – 30 अंक
  • वाक्य विन्यास – 25 अंक
  • संक्षेपण – 15 अंक

सामान्य अध्ययन – I

  1. भारत का आधुनिक इतिहास और भारतीय संस्कृति.
  2. राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय महत्व का वर्तमान घटना चक्र.
  3. सांख्यिकी विश्लेषण आरेखन और चित्रण.

इस पत्र में आधुनिक भारत (तथा बिहार के विशेष सन्दर्भ में) के इतिहास और  भारतीय संस्कृति के अंतर्गत लगभग 19वीं  शताब्दी के मध्य भाग से लेकर देश के इतिहास की रूप रेखा के साथ-साथगाँधी, रविन्द्र और नेहरु से सम्बंधित प्रश्न भी सम्मलित होंगे. बिहार के आधुनिक इतिहास के सन्दर्भ में प्रश्न इस क्षेत्र में पाश्चत्य शिक्षा  (प्रौद्योगिकी शिक्षा समेत) के आरम्भ और विकास से पूछे जायेंगे. इसमें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में बिहार की भूमिका से सम्बंधित प्रश्न रहेंगे. ये प्रश्न मुख्यतः संथाल विद्रोह, बिहार में 1857 का बिरसा मुंडा आन्दोलन, चम्पारण सत्याग्रह तथा 1942 का भारत छोड़ो आन्दोलन से पूछे जायेंगे.

परिक्षार्थियो से आशा की की जाती है की वे मौर्य काल तथा पाल कल की कला और पटना कलम चित्रकला की मुख्य विसेश्ताओं से परिचित होंगे. सांख्यिकीय विश्लेषण आरेखन और सचित्र निरूपण से सम्बन्धित विषयों में सांख्यिकीय आरेखन या चित्रात्मक रूप से प्रस्तुत सामग्री की जानकारी के आधार पर सहज बुद्धि का प्रयोग करते हुए कुछ निष्कर्ष निकालना और उसमे पाई गई कमियों, सीमाओं और असंगतियों का निरूपण करने की क्षमता की परीक्षा होगी.

सामान्य अध्ययन  – II

  1. भारतीय राजव्यवस्था
  2. भारतीय अर्थव्यवस्था और भारत का भूगोल
  3. भारत के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमिका और प्रभाव.

इस पत्र में भारतीय राज्यव्यवस्था से सम्बंधित खण्ड में भारत की (तथा बिहार की ) राजनीतिक व्यवस्था से सम्बंधित प्रश्न होंगे. भारतीय अर्थव्यवस्था और भारत तथा बिहार के भूगोल से सम्बंधित खण्ड में भारत की योजना और भारत के भौतिक, आर्थिक और सामाजिक भूगोल से सम्बंधित प्रश्न पूछे जायेंगे. भारत के विकास में विज्ञानं और प्रौद्योगिकी के महत्व और प्रभाव से सम्बंधित तीसरे खण्ड में ऐसे प्रश्न पुहे जायेंगे, जो भारत तथा बिहार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के महत्व के बारे में उम्मीदवार की जानकारी की परीक्षा करे. इनमे प्रायोगिक पक्ष पर बल दिया जायेगा.

ऐच्छिक विषय

बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा घोषित 34 ऐच्छिक विषयों में से एक विषय का चयन करना होगा. इस ऐच्छिक विषय के लिए आप आयोग की वेबसाइट www.bpsc.bih.nic.in Log in कर आप अपनी मनपसंद पाठ्यक्रम को स्कैन कर ले.

क्या हो रणनीति ?

सफलता उसी प्रतियोगी को प्राप्त होती है, जो सफलता के दृढ प्रतिज्ञ तथा समर्पित होता है. BPSC सिविल सर्विसेज परीक्षा की तयारी एक वर्ष पूर्व आरम्भ कर देनी चाहिए. यह समय-सीमा सभी प्रतियोगियों के लिए है, सफलता में समय प्रबंधन का सार्वधिक महत्व होता है. प्रारम्भिक परीक्षा सामान्य अध्ययन, मुख्य परीक्षा अनिवार्य पत्र तथा वैकल्पिक विषय की तैयारी सन्तुलित ढंग से करनी चाहिए, ताकि कोई भी पत्र किसी भी दृष्टि से कमजोर न पद जाए.

सामान्य अध्ययन की तैयारी के लिए पिछले वर्षो के Solved Papers को पढ़कर Pattern को ध्यान में रखते हुए तैयारी आरम्भ करें. सामान्य अध्ययन की तयारी हेतु विषय गत जानकारी के अतिरिक्त नवीनतम Current Affairs से लगातार परिचित रहने के लिए एक-दो समाचार-पत्रों का सूक्ष्म अध्ययन अनिवार्य होगा. राष्ट्रिय, अंतर्राष्ट्रीय , आर्थिक, खेल, पुरस्कार, पुस्तकें तथा वैज्ञानिक खबरों के लिए एक संतुलित English-Hindi Newspaper का दैनिक अध्ययन तैयारी के लिए बहुत जरुरी है. The Hindu, Hindustan, Dainik Jagran, भास्कर उपर्युक्त सभी विषयों के समाचार विश्लेषण संतुलित ढंग से प्रस्तुत करता है.

प्रतियोगी को अपनी सफलता सुनिश्चित करने के लिए कुछ दिन की तैयारी के बाद स्वमूल्यांकन भी करे. इस तरह आपको अपनी कमजोरी पकड़ने का मौका मिलता है और आप उसे दूर करने के लिए निश्चित तौर पर प्रयत्न करेंगे. जिस प्रश्न को आप बनाये उसक स्वयं मुल्यांकन न करे, बल्कि सह-प्रतियोगी को इसका अवसर दे. ऐसा इसलिए जरुरु है, क्योंकि यह मानव स्वाभाव है की व्यक्ति अपनी कमजोरियों पर अधिक ध्यान नहीं देता. इस परीक्षा में सफलता के लिए सामूहिक अध्ययन का विशेष महत्व है. सामूहिक अध्ययन में संशय/संदेह का तत्काल समाधान संभव होता है. प्रतियोगी को अध्ययन के आलावा मानसिक थकन से राहतके लिए मनोरंजन के साधनों का सहारा लेना चाहिए. मधुर संगीत सकारात्मक मनोरंजन का अच्छा साधन है.

BPSC Exam Preparation Books

Book NameOnline Buy From Amazon
BPSC Preliminary Exam Solved Papers 1992-2017 Hindi Medium – 2085Buy Now
BPSC (Pre.) Vastunishtha Prashn Sangrah All in OneBuy Now
BPSC Bihar Lok Seva Aayog Samanya Adhyayan Prarambhik Pariksha 1992 Se 2017 Tak Solved Papers 2018Buy Now
BPSC Solved Papers Pre Examination2018 By Arihant Buy Now
BPSC Bihar Lok Seva Aayog Prarambhik Pariksha Samanya Adhyayan (Hindi) Buy Now
Bihar ArthvayvasthaBuy Now
ESSAYS for Civil Services and Other Competitive ExaminationsBuy Now
BPSC MAIN EXAM 2019 GENERAL STUDIES PAPER I & II TOPIC WISE SOLVED PAPER 1993-2018Buy Now
Pracheen Aur Madhyakalin Bharat: For UPSC and State Civil Service ExaminationsBuy Now

इसे भी पढ़े :