एग्जाम फोबिया: परीक्षा से डर क्यों लगता है और इसके संभावित उपाय

एग्जाम फोबिया क्या है?

किसी भी परीक्षा के पहले कुछ विद्यार्थियों को एग्जाम स्ट्रेस या एक्जाम फीवर हो जाता है यह एक तरह का डर है जो उन्हें परीक्षा से पहले या परीक्षा के दौरान होता है ज्यादातर यह बोर्ड एग्जाम के दौरान छात्रों में देखने को मिलता है जिसमें छात्रों को फेल होने का डर उनके दिमाग को तनाव से घेर लेता है इसे ही एग्जामोफोबिया या एग्जाम फोबिया कहते हैं।

एग्जाम फोबिया का कारण क्या है?

एग्जाम फोबिया (Exam Phobia)

बच्चों में एग्जाम फोबिया होने के बहुत से कारण हो सकते हैं जिसमें सबसे पहले तो उनके फेल होने और मजाक बने का डर सताता है। और दूसरा महत्वपूर्ण कारण पेरेंट्स का बच्चे पर एग्जाम में टॉप करना या अच्छे मार्क्स लाने का इमोशनली दबाव होना होता है अपने बच्चों पर उम्मीदों का बहुत ज्यादा बोझ लड़ना भी एग्जाम फोबिया को जन्म देने का कारण बन सकता है।

एग्जाम फोबिया से कैसे बचे

सही स्ट्रेटजी प्लान करें। जिसमें पढ़ने और रिवीजन दोनों के लिए ही पर्याप्त समय रखें इससे पढ़ाई का लोड नहीं बढ़ेगा और तनाव भी महसूस नहीं होगा। परीक्षा की तैयारी पहले से ही करें यह मेंटल प्रेशर से बचने का सबसे अच्छा उपाय है इससे एग्जाम के टाइम आप पर मानसिक दबाव नहीं बढ़ेगा।

संतुलित आहार अवश्य लें

संतुलित आहार हमें पूरे दिन ऊर्जा से भारी रखने का सबसे अच्छा स्रोत बनता है इससे आपको पढ़ाई में ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी साथ ही आप शारीरिक रूप से स्वस्थ रहेंगे और मानसिक रूप से भी आपको तनाव नहीं होगा। खाली पेट तनाव को और ज्यादा बढ़ता है इसलिए सुबह का नाश्ता भी अवश्य करें।

एक्सरसाइज, योगा, ध्यान करें

  • तनाव को खुद से दूर रखने के लिए एक्सरसाइज, योगा, वॉक या फिर साइकलिंग सबसे अच्छा कारगर उपाय माना जाता है।
  • बच्चों के लिए स्विमिंग जैसी एक्टिविटीज भी काफी अच्छी मानी जाती है आप किसी भी तरह की एक्टिविटीज को अपने दिनचर्या में शामिल करके दिमाग को शांत रख सकते हैं।
  • रात में पर्याप्त नींद ले। नींद पूरी न होने से दिमाग में कंफ्यूजन की स्थिति पैदा होती है। पर्याप्त नींद लेने से हमारे अंदर कॉन्फिडेंस आता है साथ ही हम पूरी एनर्जी के साथ पॉजिटिव फील करते हैं।

अपने लक्ष्य के प्रति स्पष्ट और ईमानदार बने। अपनी तरफ से प्रयास करने में कमी ना करें। किसी भी विद्यार्थी के लिए परीक्षा का समय भविष्य को सही दिशा में मोड देने वाला सबसे कीमती पल होता है ऐसे समय में आप अपनी मेहनत, आत्मविश्वास और मानसिक स्थिरता के साथ अपने लक्ष्य को सकारात्मक के साथ सही दिशा में ले जा सकते हैं । बस आप अपने लक्ष्य के प्रति ईमानदार रहे और स्पष्ट रहे अपने प्रति आत्मविश्वास को बनाए रखें। 


You can also connect with us on FacebookTwitter or Instagram for daily updates.


इसे भी पढ़ें:

Leave a Comment