World Water Day – 22 मार्च ‘ विश्व जल दिवस ‘ जानें कहां, कब और कैसे इसकी शुरुआत हुई?

22 March World Water Day Know Where, When And How It Started?

0

22 मार्च 2020 ‘विश्व जल दिवस’ जानें कहा, कब और कैसे इसकी शुरुआत हुई?’ | World Water Day 2020 in Hindi – दोस्तों आज SarkariExamHelp आप सभी छात्रों के समक्ष World Water Day (विश्व जल दिवस) के बारे में जानकारी शेयर कर रहा है. जो भी छात्र विश्व जल दिवस की जानकारी पढ़ने को इच्छुक है जैसे विश्व जल दिवस क्या है?, कब इसकी शुरुआत हुई?  और क्यों मनाया जाते है?. आप इस लेख के माध्यम से World Water Day in Hindi की जानकारी हासिल पाएंगे. संयुक्त राष्ट्र ने विश्व के हर नागरिक को पानी की महत्ता से अवगत कराने के लिए ही ‘ विश्व जल दिवस‘ बनाने की शुरुआत की थी. ‘

इसकी शुरुआत 1992 से हुई है, पानी के संरक्षण के विषय में समय रहते सचेत होने का यह दिन जल के महत्व को जानने का है. धरातल (Surface) पर तीन चौथाई पानी होने के बाद भी पीने योग्य पानी एक सीमित मात्रा में ही उपलब्ध है. आज भारत और विश्व के सामने पीने के पानी की समस्या उत्पन्न हो गई है.

अवश्य पढ़ें:

World Water Day (विश्व जल दिवस)

World Water Day - 22 मार्च ' विश्व जल दिवस ' जानें कहा, कब और कैसे इसकी शुरुआत हुई?
World Water Day – 22 मार्च ‘ विश्व जल दिवस ‘ जानें कहा, कब और कैसे इसकी शुरुआत हुई?

प्रत्येक वर्ष 22 मार्च को मनाया जाता है इंसान जल की महत्ता को लगातार भूलता गया और उसे बर्बाद Ruin करता रहा, इसके फलस्वरूप आज जल संकट (Water Crisis) सबके सामने है. आज विश्व में जल का संकट कोने – कोने में व्याप्त Rife है. लगभग हर क्षेत्र में विकास हो रहा है|  दुनिया औद्योगिकीकरण की राह पर चल रही है, किंतु स्वच्छ और रोग रहित जल मिल पाना कठिन हो रहा है. कहीं-कहीं तो यह भी सुनने में आता है कि अगला विश्वयुद्ध जल को लेकर होगा| विश्व भर में सब जल की अनुपलब्धता के चलते ही जल जनित रोग महामारी का रूप ले रहे हैं. विश्व के हर नागरिक को पानी की महत्ता से अवगत कराने के लिए ही संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने “विश्व जल दिवस” मनाने की शुरुआत की थी.

Rio de Janeiro (रियो डी जेनेरियो)

विश्व जल दिवस ‘ मनाने की शुरूआत संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 1992 के अपने अधिवेशन में 22 मार्च को की थी. ‘ विश्व जल दिवस ‘ की अंतरराष्ट्रीय पहल ‘ रियो डी जेनेरियो ‘ Rio de Janeiro में 1992 में आयोजित ‘ पर्यावरण तथा विकास का संयुक्त राष्ट्र (United Nations) सम्मेलन ( यूएनसीईडी ) में की गई थी, जल के संरक्षण और रखरखाव पर जागरूकता फैलाने का कार्य किया गया. जिस पर सर्वप्रथम 1992 को पहली बार 22 मार्च के दिन पूरे विश्व में जल दिवस मनाया गया.

Resolve And Conserve Water (संकल्प व पानी का संरक्षण)

22 मार्च ‘ अर्थात ‘ विश्व जल दिवस ‘ पानी बचाने के संकल्प का दिन है यह दिन जल के महत्व को जानने और पानी के संरक्षण के विषय में समय रहते सचेत होने का दिन है. प्रकृति इंसान को जीवनदायी संपदा जल चक्र के रूप में प्रदान करती है. इंसान भी इस चक्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. आंकड़े बताते हैं कि विश्व के 1.5 अरब लोगों को पीने का शुद्ध पानी नहीं मिल रहा है. चक्र को गतिमान रखना प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है. इस चक्र के थमने का अर्थ है जीवन का थम जाना. हम स्वयं पानी का निर्माण नहीं कर सकते. प्रकृति के खजाने से जितना पानी हम लेते है उसे वापस भी हमें ही लौटाना है. अतः प्रकृतिक संसाधनों को दूषित (Contaminated) नहीं होने देना चाहिए और पानी को व्यर्थ Vain होने से बचाना चाहिए.

” 22 मार्च का दिन यह प्रण लेने का दिन है कि हर व्यक्ति को पानी बचाना है. “

इसे भी पढ़ें:

Leave A Reply

Your email address will not be published.