Mann Ki Baat in Hindi – Pm Said No Other Option But Lock Down

29 मार्च 2020 मन की बात की मुख्य व खास बातें | पीएम ने कहा लॉकडाउन के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं

0

29 March 2020 Key And Special Things Of “Mann Ki Baat” Pm Said No Other Option But Lock Down – नरेंद्र मोदी ने रविवार को कोरोना वायरस और लॉकडाउन को लेकर देश को संबोधित किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं आपकी दिक्कतें समझता हूं, लेकिन भारत को इस वायरस से जितने के लिए ये कदम उठाने जरूरी थे. उन्होंने देशवासियों को हुई असुविधा, कठिनाइयों के लिए माफी मांगी. प्रधानमंत्री ने कुछ डॉक्टरों से भी बात की और उनकी सराहना की उन्होंने स्वास्थ्य कर्मचारियों को रियल लाइफ हीरो बताया.

अवश्य पढ़ें:

Mann Ki Baat: Corona Global Pandemic (कोरोना वैश्विक महामारी)

Mann Ki Baat in Hindi - Pm Said No Other Option But Lock Down
Mann Ki Baat in Hindi – Pm Said No Other Option But Lock Down

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा ‘ आमतौर पर मैं मन की बात में कई विषयों को लेकर के आता हूं. लेकिन आज देश के मन में सिर्फ एक ही बात है – ‘ कोरोना वैश्विक महामारी ‘ से आया हुआ भयंकर संकट, ऐसे में मैं कुछ और कहूं तो उचित नहीं होगा. हो सकता है बहुत से लोग मुझसे नाराज होंगे कि ऐसे कैसे सबको घर में बंद कर रखा है. मैं आपकी दिक्कतें समझता हूं, लेकिन भारत को कोरोना के खिलाफ जीतने के लिए यह कदम उठाए बिना. कोई रास्ता नहीं था.

कोरोना वायरस ने दुनिया को कैद कर दिया है. यह ना तो राष्ट्र की सीमाओं में बंधा है, न हीं कोई क्षेत्र देखता है और न ही कोई मौसम. अगर कोई 21 दिनों के लॉक डाउन का नियम तोड़ेंगे तो वायरस से बचना मुश्किल हो जाएगा.

Ram Followed The Instructions (राम ने किया निर्देश का पालन)

इस लड़ाई के योद्धा ऐसे हैं जो घरों में नहीं,  बल्कि बाहर रहकर वायरस का मुकाबला कर रहे हैं. फ्रंटलाइन सोल्जर, नर्सेज, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ ( Frontline Soldier, Nurses, Doctor, Paramedical Staff ) ऐसे साथी जो कोरोना को पराजित कर चुके हैं, उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए. जैसे कि राम ने बताया कि उन्होंने हर उस निर्देश का पालन किया जो इसको कोरोना की आशंका होने के बाद डॉक्टरों ने दिए , इसी का परिणाम है कि आज वो स्वस्थ होकर सामान्य जीवन जी रहे हैं.

दुनिया का अनुभव बताता है कि इस बीमारी से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या अचानक बढ़ती है. अचानक होने वाली इस वृद्धि के वजह से विदेशों में हमने अच्छे से अच्छे स्वास्थ्य सेवा को जवाब देते हुए देखा है. भारत में ऐसी स्थिति ना आये इसके लिए ही हमें निरंतर प्रयास करना है. इसमें डॉक्टरों का त्याग, तपस्या समर्पण आज मैं देख रहा हूं.

जरूर पढ़ें:

2020 International World Nurse Year (वर्ष 2020 अंतर्राष्ट्रीय विश्व नर्स वर्ष)

ये संयोग है कि वर्ष 2020 को राष्ट्रीय विश्व नर्स वर्ष और मिडवाइफ के तौर पर मना रहा है. इसका संबंध 200 वर्ष पूर्व 1820 में जन्मी फ्लोरेंस नाइटिलग से जुड़ा हुआ है, उन्होंने नर्सिंग को एक नई पहचान दी. दुनिया की हर नर्स के सेवा भाव को समर्पित ये वर्ष निश्चित तौर पर नर्सिंग समुदाय के लिए बहुत बड़ी परीक्षा की घड़ी बन कर आया है.

कोरोना से लड़ने का कारगार तरीका सामाजिक दूरी है. हमें समझना होगा कि सामाजिक दूरी का मतलब सामाजिक संपर्क (Social Interaction) खत्म करना नहीं बल्कि ये समय सामाजिक दूरी (Social Distancing) को बढ़ाने और भावनात्मक दूरी घटाने का है.

Banking Services (बैंकिंग सेवाएं चालू है)

तमाम लोगों के हौसले और जज्बे के कारण ही इतनी बड़ी लड़ाई हम लड़ पा रहे हैं. इस जंग में हमारे आसपास ऐसे अनेक लोग हैं जो समाज के रियल हीरो है. सबने देखा होगा, बैंकिंग सेवाओं को सरकार ने चालू रखा है और बैंकिंग – क्षेत्र के लोग पूरे मन से इस लड़ाई का नेतृत्व करते हुए आपकी सेवा में मौजूद है.

कोरोना वायरस के खिलाफ यह युद्ध अभूतपूर्व और चुनौतीपूर्ण है. इस दौरान लिए जा रहे फैसले ऐसे हैं, जो दुनिया के इतिहास में कभी देखने और सुनने को नहीं मिले. इसे रोकने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं वही भारत को इस महामारी पर जीत दिलाएंगे.

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़ें: