अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस क्या है और क्यों मनाते है? International Day Of Democracy in Hindi

0

International Day Of Democracy in Hindi – पूरी दुनिया 15 सितंबर को अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं। लोकतंत्र का मतलब यह कि जनता का जनता के लिए और जनता के द्वारा चुना जाता है।लोकतंत्र का अर्थ सिर्फ लोगों का लोगों के द्वारा लोगों के लिए नहीं है इसका अर्थ व्यापक है। यह सामाजिक आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक है। देश में रहने वाले सभी लोगों को समाज में समान अवसर प्राप्त हो, देश के सभी लोग राजनीति में समान भागीदारी रखें।

अवश्य पढ़ें:

अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस की शुरुआत कब हुई?

अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस (International day of democracy)
अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस (International day of democracy)

साल 2007 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस की शुरुआत की। अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस की नींव रखते ही विश्व में लोकतंत्र को बढ़ावा देने और उसे मजबूत करने का उद्देश्य रखा गया। पहली बार अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस साल 2008 में मनाया गया।


20+ Free Mocks For RRB NTPC & Group D ExamAttempt Free Mock Test
10+ Free Mocks for IBPS & SBI Clerk ExamAttempt Free Mock Test
10+ Free Mocks for SSC CGL 2020 ExamAttempt Free Mock Test
Attempt Scholarship Tests & Win prize worth 1Lakh+1 Lakh Free Scholarship

अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस क्यों मनाते है?

लोकतंत्र के पहले अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस को यादगार बनाने के लिए आईपीयू (इंटर पार्लियामेंट्री यूनियन ) जिनेवा में संसद के सदन में एक विशेष आयोजन किया गया। हर साल अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस को मनाने के लिए एक थीम रखी जाती है । इस वर्ष यह थीम हैं ‘changing word‘ यानी तनाव में लोकतंत्र :एक बदलती दुनिया के लिए समाधान है। इस वर्ष लोकतंत्र को मजबूत करने और सामने आने वाली चुनौतियों के जवाब तलाशने का एक अवसर भी है।

एक आदर्श लोकतंत्र व्यवस्था

महान विचारक की चिंता भारतीय लोगों के गहन अध्ययन पर ही आधारित है।  चर्चिल को 70 साल बाद भी हम अंग्रेज कहकर इन्हें नहीं खारिज कर सकते। यह एक सत्य है कि भारत में लोकशाही की एक मिशाल दुनिया भर में कायम की है। हम एक आदर्श लोकतंत्र व्यवस्था से कोसों दूर है,क्योंकि लोकतंत्र के बीज हमारे मन मस्तिष्क में नहीं है। भारत जैसे देश में लोकतंत्र एक चुनावी सिस्टम मात्र है। सच तो यह है कि लोकतंत्र जब हमारे घर में ही नहीं है तो देश में कैसे होगा। वर्तमान लोकसभा का चुनाव जिस पारदर्शिता और व्यापक जन सहभागिता से हुआ है । वह अद्वितीय महत्त्व का मामला है।


दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़ें:

Leave A Reply

Your email address will not be published.