ई-लर्निग के बारे मे पूरी जानकारी -Complete Information About E-learning In Hindi

0

ई लर्निंग क्या है? | What is E-learning? |Definition of ‘E-learning’ई-लर्निग ने समाज से इस अज्ञानता को समाप्त करने में एक बड़ा सहयोग दिया है।E-learning कि दिशा में बहुत आगे बड़े और देश शिक्षा के स्तर में सबसे आगे हो। E-learning को सभी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक (Electronic) समर्थित शिक्षा और अध्यापन के रुप में परिभाषित किया जाता है,जो स्वाभाविक तौर पर क्रियात्मक होते हैं।जरुरत के मुताबिक छात्र E-learning से अपनी जानकारी जुटा सकते है आजकल इंटरनेट (Internet) पर जानकारियों का भंडार मौजूद है और जिनका उद्देश्यः शिक्षार्थी के व्यक्तिगत अनुभव,अभ्यास और ज्ञान के संदर्भ में ज्ञान के निर्माण को प्रभावित करना है।

ई-लर्निग का मतलब “Electronic Learning” अर्थात इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और डिजिटल मीडिया के माध्यम से Education लेना ही ई-लर्निग कहलाता है। इंटरनेट, मोबाइल फोन, मोबाइल एप्लिकेशन, टैबलेट, लैपटॉप (Electronic, Mobile phone, Mobile application, Tablet, Laptop) और अन्य आधुनिक उपकरणों के विकास के कारण आज की दुनिया काफी हद तक आधुनिकीकृत हो गई है।आजकल डिजिटल शिक्षण जैसे-पीपीटी,विडियों प्रस्तुतियों, ई-लर्निग विधियों,अभ्यास संबंधी डेमो,ऑनलाइन प्रशिक्षण और अन्य डिजिटल पध्दतियों या प्लेटफार्मों के उपयोग के साथ कक्षा में शिक्षण अत्यधिक संवादात्मक हो गया है।

ई-लर्निग-नये क्षेत्र में आगे बढ़ना है (E-learning is to move into a new field)

What is E-Learning in Hindi?
E-learning क्या है? | What is E-Learning in Hindi?

अवश्य पढ़ें:

Electronic Media के माध्यम से पढ़ना एंव सीखना ज्ञान प्राप्त करना जैसे इंटरनेट (Internet) पर और साथ ही ई-लर्निग प्रभावी ढ़ंग से अध्ययन करने के लिए व्यक्तियों के आत्म-प्रेरणा पर भी निर्भर करती है, इसे ही ई-लर्निग कहते है। यह छात्रों को आपस में लर्निग की सुविधा देता है। छात्र दुनिया भर में दूसरे छात्रों के साथ संबंधित विषय पर चर्चा करते हैं और अपनी जानकारी का आदान-प्रदान करते है।

शिक्षा को रोचक और विषयों को रुचिकर बनाना (Make education and subjects interesting)

E-learning ने English और Maths को Movie Games और Comics के माध्यम से इतना रोचक बना दिया है कि उनके अभिभावकों को भी यकीन नही हो रहा है, कि ये वही बच्चा है जो मैथ्स के नाम पर रोने लगता था। ई-लर्निग के माध्यम से मैथ्स और इंग्लिश में इतना होशियार हो गया है, कि छात्र बिना किसी दबाव के स्वंम् के व्दारा भी आसानी से समझ सकता है।

कई बच्चों को इंग्लिश और मैथ्स विषयों में कई कठिनाई आती थी परंतु जबसे इंटरनेट पर कई ऐसी वेबसाइट्स उपलब्ध है जो इन विषयों को रुचिकर बनाने में सफल हुई है।आज ऐसे कई संगठन है जो ई-लर्निग के क्षेत्र में कार्य कर रहे है और शिक्षा को रोचक और आकर्षित बनाने का प्रयास कर रहे है।


20+ Free Mocks For RRB NTPC & Group D ExamAttempt Free Mock Test
10+ Free Mocks for IBPS & SBI Clerk ExamAttempt Free Mock Test
10+ Free Mocks for SSC CGL 2020 ExamAttempt Free Mock Test
Attempt Scholarship Tests & Win prize worth 1Lakh+1 Lakh Free Scholarship

हरेक बच्चे को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा (Quality Education) उपलब्ध कराना है।ज्यादा से ज्यादा शिक्षण संस्थान ई-लर्निग को अपना रहे है, क्योंकि यह बच्चों को नविनतम शिक्षा उच्च स्तरीय (Latest Education) तकनीक के साथ प्रदान कर रहे है। ई-लर्निग– अर्थात शिक्षा देने का इलेक्ट्रॉनिक तरीका ई-लर्निग से अब सीखना और सिखाना काफी आसान हो गया है।स्कूल, कॉलेज, दफ्तर हो या घर, इन नए साधनों से लोग सीखने या अपने कौशल को बेहतर बनाने में मदद ले रहे है।

ई-लर्निग- शिक्षा से कैसे मिलता है लाभःडिजिटल शिक्षा (How do you get benefit from digital education)

दृश्य-श्रव्य माध्यम हैः बच्चे इस पर अधिक ध्यान देते है यह न केवल सुन रहे है, बल्कि इसे स्क्रीन पर देख भी रहे हैं, सुनने के साथ दृश्यों को देख कर छात्र आसानी से सीख सकते है।

समय कम लगता हैः पेन और पेंसिल की बजाय टैब, लैपटॉप या नोट-पैड के उपयोग की सहायता से छात्र अपने कार्यो को कम समय में पूरा कर लेते है।

भाषा कौशल मे सुधार होता हैः ऑनलाइन स्क्रीन की सहायता से छात्र अपनी भाषा कौशल में सुधार कर लेते हैं।नये शब्द सीखते हैं और अपनी शब्दावली का विस्तार करते हैं।

योगयता क्षमतानुसार सीखते हैः कई बार छात्र अपने शिक्षक से कक्षा में,प्रश्न पूछने से झिझकता है,लेकिन डिजिटल शिक्षा के माध्यम से भले ही वह एक बार में कुछ भी न समझ पाए,फिर भी वह अपनी दुविधा मिटाने में रिकॉडिंग को पुनःसुनकर अपनी योग्यता क्षमतानुसार सीखने में मदद करती है।

इसका उपयोग कहीं भी कर सकते हैः डिजिटल शिक्षा के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि ये सुविधानुसार छात्र कहीं भी इसका उपयोग कर सकते है,यात्रा के दौरान भी सीख सकते है।किसी कारण वश कक्षा में उपस्थित नही हो पाये तो भी,स्कूल की वेबसाइट से कक्षा की जानकारी(सामग्री)डाउनलोड कर सकते हैं।

स्वयं शिक्षा ग्रहण करते हैः छात्र अपनी क्षमताओं के आधार पर शिक्षक के बिना भी अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए विभिन्न विषयों के विषय का ऑनलाइन अध्ययन कर सकते है।


आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़ें:

Leave A Reply

Your email address will not be published.